• Shruti Bhatt

घर रहे सुरक्षित रहे पर कविता कुछ दिन तो गुजारों चार दीवार में – लव रुद्र प्रताप सिंह



घर में रहे, सुरक्षित रहे।


“कुछ दिन तो गुजारों चार दीवार में”। “अपनापन ” बिकता नहीं जनाब ! किसी माल या बाज़ार में, कुछ दिन तो गुजारों चार दीवार में!!” कहते थे- “वक्त नहीं हैं सांस लेने को” आज मिला हैं वक्त तुम्हें , खुद को वक्त देने को, सुकून बसता नहीं केवल , शनिवार या इतवार में, कुछ दिन तो गुजारो चार दिवार में!! एडजस्टर , पंखे, कूलर की कर लो थोड़ा सफ़ाई , पानी की टंकी में ….. लग गई है काई , आ गई थोड़ा गड़बड़ी …… मिव्सर के जार में……. , कुछ दिन तो गुजारो चार दीवार में!!


नाम- लव रुद्र प्रताप सिंह कक्षा- 12 केंद्रीय विद्यालय IIT खरगपुर वेस्ट बंगाल


#PoemOnStayHomeStaySafe #StudentJournalist #K12News

Subscribe to Our Newsletter For FREE

School K12 Media Program

Starting From INR 11,999* P.A. Only.

Call Us : +91-8287477783

K12news_new-removebg-preview.png
Best_Schools_Near_Me-removebg-preview.pn